लाखों राम भक्तों के बलिदान ने रचा इतिहास...... देश के 8000 स्थानों की मिट्टी और जल का उपयोग होगा श्री राम मंदिर भूमि पूजन समय .. विनोद शर्मा की रिपोर्ट

लाखों राम भक्तों के बलिदान ने रचा इतिहास...... देश के 8000 स्थानों की मिट्टी और जल का उपयोग होगा श्री राम मंदिर भूमि पूजन समय .. विनोद शर्मा की रिपोर्ट
लाखों राम भक्तों के बलिदान ने रचा इतिहास...... देश के 8000 स्थानों की मिट्टी और जल का उपयोग होगा श्री राम मंदिर भूमि पूजन समय .. विनोद शर्मा की रिपोर्ट

 नई दिल्ली:-  अयोध्या में राम मंदिर निर्माण के लिए पांच अगस्त को होने वाले भूमि पूजन में देशभर के करीब आठ हजार पवित्र स्थलों से मिट्टी, जल और रजकण का उपयोग किया जाएगा. कार्यक्रम से जुड़े लोगों का कहना है कि सामाजिक समरसता का संदेश देने के लिए देशभर से मिट्टी एवं जल का संग्रह किया जा रहा है.: श्रीराम जन्मभूमि तीर्थक्षेत्र ट्रस्ट के सदस्य कामेश्वर चौपाल ने बताय कि ‘देशभर से अयोध्या पहुंचने वाली मिट्टी एवं जल का आंकड़ा अभी तक जोड़ा नहीं गया है लेकिन ऐसा अनुमान है कि सात-आठ हजार स्थानों से मिट्टी, जल एवं रजकण पूजन के लिए अयोध्या पहुंचेगा।दिन पहले तक करीब 3,000 स्थानों से मिट्टी और जल वहां पहुंच चुका है.’ उन्होंने कहा कि मिट्टी और जल एकत्र करने का कार्यक्रम राष्ट्रीय एकता एवं सामाजिक समरसता को मजबूत बनाने का अनूठा उदाहरण है.चौपाल ने कहा, ‘उदाहरण के लिए झारखंड में ‘सरना स्थल’ आदिवासी समाज का महत्वपूर्ण पूजा स्थल है. जब हम उस स्थान की मिट्टी एकत्र करने गए तो दलित और आदिवासी समाज में अभूतपूर्व उत्साह का माहौल देखने को मिला. उनका कहना था कि राम और सीता तो हमारे हैं, तभी हमारी माता शबरी की कुटिया में पधारे और जूठे बेर खाए.’वहीं, विश्व हिन्दू परिषद (विहिप) के केंद्रीय महामंत्री मिलिंद परांडे ने कहा, ‘भगवान राम ने सामाजिक समरसता और सशक्तीकरण का संदेश स्वयं के जीवन से दिया. इसलिए उनके मंदिर निर्माण के भूमि पूजन में देशभर की पवित्र नदियों के जल और तीर्थ स्थानों की मिट्टी का उपयोग किया जा रहा है।’ परांडे ने कहा कि भगवान राम द्वारा अहिल्या का उद्धार, शबरी और निषादराज से प्रेम एवं मित्रता सामाजिक समरसता के अनुपम उदाहरण हैं.विहिप सूत्रों ने बताया कि इसी श्रृंखला में काशी स्थित संत रविदास जी की जन्मस्थली, बिहार के सीतामढ़ी स्थित महर्षि वाल्मीकि आश्रम, महाराष्ट्र में विदर्भ के गोंदिया जिला के कचारगड, झारखंड के रामरेखाधाम, मध्य प्रदेश के टंट्या भील की पुण्यभूमि से जुड़े स्थलों, पटना के श्रीहरमंदिर साहिब, डॉ. बाबासाहेब आंबेडकर के जन्मस्थान महू, दिल्ली के जैन मंदिर और वाल्मीकि मंदिर जैसे स्थलों से मिट्टी एवं पवित्र जल एकत्र किया जा रहा है.


 


Aug 2 2020 9:44PM
लाखों राम भक्तों के बलिदान ने रचा इतिहास...... देश के 8000 स्थानों की मिट्टी और जल का उपयोग होगा श्री राम मंदिर भूमि पूजन समय .. विनोद शर्मा की रिपोर्ट
Source: Phagwara Express News
website company in Phagwara
website company in Phagwara

Leave a comment





Latest post